Search
Close this search box.

Mahabharat : सूर्यास्त पर रुक जाता है युद्ध!! लेकिन क्यों चला था 14वें दिन आधी रात तक संग्राम

Mahabharat

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

Mahabharat : आज हम महाभारत के युद्ध के बारे में कुछ बातें करने जा रहे हैं। महाभारत युद्ध के 14वे दिन पांडवों की तरफ से भीम का पुत्र घटोत्कच युद्ध मैदान में उतरा था। आपको बता दें कि घटोत्कच एक राक्षस था जो कि रावण की तरह काफी शक्तिशाली रहा है। घटोत्कच राक्षस होने के कारण उसकी शक्तियां रात में ही काम किया करती थी यहां तक कि वह अचानक गायब भी हो सकता था। घटोत्कच के पास तरह-तरह के मायावी शस्त्र भी थे यहां तक कि वह एक चुटकी में ही मायावी सेना तैयार कर सकता था।

Mahabharat : 14वें दिन टूटा नियम

यह तो हम सभी जानते हैं कि महाभारत के दौरान यह नियम बनाया गया था कि सूरज अस्त होने के बाद युद्ध थम जाएगा। लेकिन देखा जाए तो भीष्म पितामह के गायब होने के बाद युद्ध के सारे नियम ही बदल गए। इन नियमों का पालन ना तो पांडवों ने किया और ना ही गौरव ने। देखा जाए तो एक नियम युद्ध के 14 दिन भी टूट गया था। देखा जाए तो 14 दिन सूरज अस्त होने के बावजूद भी युद्ध आधी रात तक चलता रहा। 14 दिन योद्धा आधी रात तक चलता रहा इसमें पूरा हाथ कृष्ण भगवान का था।

Mahabharat

देखा जाए तो दसवे दिन भीष्म पितामह का वध पांडवों ने कर दिया था और 11 दिन पांडवों ने कर्ण को मारने की योजना बनाई थी। लेकिन कृष्ण भगवान यह अच्छी तरह से जानते थे कि कर्ण के पास इंद्रदेव के द्वारा दी गई असंख्य मायावी शस्त्र है। इंद्रदेव की कृपा से पाए गए शस्त्र से कर्ण आसानी से अर्जुन को मार सकता था। इसलिए कृष्ण भगवान चाहते थे कि कर्ण के पास जितने भी मायावी शस्त्र है वह किसी और योद्धा पर इस्तेमाल हो जाए और अर्जुन के प्राण बच जाए।

Mahabharat : कौरव सेना में मची त्राहि

पांडवों के तरफ से कर्ण को टक्कर देने के लिए या तो अर्जुन सामने आ सकते थे या फिर घटोत्कच। भगवान कृष्ण ने घटोत्कच को यह आदेश दिया था कि वह कर्ण को आज ही मार दे। घटोत्कच ने अपनी सारी शक्ति लगाकर कौरवों का वध करना शुरू कर दिया। और देखा जाए तो घटोत्कच काफी मायावी शक्ति से जुड़ा हुआ था, इसीलिए कोई भी गौरव घटोत्कच का बाल भी बांका नहीं कर पा रहा था।

Mahabharat

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कौरव सेना के सेनापति द्रोणाचार्य थे लेकिन वह भी घटोत्कच को मृत्यु के घाट नहीं उतार पा रहे थे। अपनी सेना को तबाह होते देखकर दुर्योधन ने कर्ण को आदेश दिया कि वह किसी भी तरह से घटोत्कच की हत्या कर दे। लेकिन देखा जाए तो घटोत्कच एक राक्षस का बेटा था और वह मायावी शक्ति जानता था, इसलिए उसे मार पाना मुश्किल नजर आ रहा था।

Mahabharat : कर्ण की वासवी शक्ति से हुआ घटोत्कच का वध

सूर्यास्त हो जाने पर पांडवों ने अपने शस्त्र छोड़ दिया और वह अपने स्थान पर चले गए लेकिन घटोत्कच युद्ध करता ही रहा। देखा जाए तो रात के वक्त घटोत्कच की शक्ति बढ़ती ही जा रही थी जिस वजह से गौरव को लगा कि अब आज उन सबका मरना ताये हैँ। अंत में थक हार के कर्ण ने अपना सबसे कीमती बार घटोत्कच पर चला दिया जो बान उसने अर्जुन की हत्या के लिए रख रखा था और इस तरह घटोत्कच की मृत्यु आधी रात को हुई।

Firenib
Author: Firenib

EMPOWER INDEPENDENT JOURNALISM – JOIN US TODAY!

DEAR READER,
We’re committed to unbiased, in-depth journalism that uncovers truth and gives voice to the unheard. To sustain our mission, we need your help. Your contribution, no matter the size, fuels our research, reporting, and impact.
Stand with us in preserving independent journalism’s integrity and transparency. Support free press, diverse perspectives, and informed democracy.
Click [here] to join and be part of this vital endeavour.
Thank you for valuing independent journalism.

WARMLY

Chief Editor Firenib

328 Responses

  1. Overlyzer is not a classic app that provides sports betting tips, but a new, highly interesting innovation on the betting market. The concept of Overlyzer is not to give betting recommendations to the user, but to be able to follow all football matches live in such a way that you can react to hot odds and match events at any time. The user interface of the WynnBET app and mobile site are quite sleek and responsive. We have also specifically enjoyed the in-game stat tracker at WynnBET, which is particularly beneficial for live betting enthusiasts. This is in addition to a solid live betting section and frequent promotions for existing bettors. You don’t have to bet on sports on your desktop to take advantage of a sportsbook’s free bet bonus. While you can bet in a mobile browser, nowadays many of the top sportsbooks and betting sites have their own associated app which allows you to access the same games, betting offers, and bonuses that you find on the desktop version. Moreover, some of the best free bets apps will offer unique bonuses that cannot be found on the usual site version – for example, betting sites may offer you free bets as a thank you for downloading their app.
    https://ml007.k12.sd.us/PI/Lists/Post%20Tech%20Integration%20Survey/DispForm.aspx?ID=27299
    Huge brand as a fantasy betting site of course and after joining with the globally established PaddyPower Betfair (all now under one big umbrella of Flutter Entertainment) is now part of a vast sports betting operation. They claim to have become the number one operator in New Jersey and are live online in Pennsylvania and West Virginia. Retail sportsbooks are operating in Iowa, New York, Mississippi, and probably soon in Indiana. So they have secured access well early on, and we expect them to be everywhere they can! Reportedly spending some $50m a year on marketing in the US. The best new bookmakers now accept a variety of payment options, so you should have a good degree of flexibility for your deposits and withdrawals after signing up. Below are the typically accepted payment methods for new betting sites:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2024 में भारत के प्रधान मंत्री कौन होंगे ?
  • नरेन्द्र दामोदर दास मोदी 47%, 98 votes
    98 votes 47%
    98 votes - 47% of all votes
  • राहुल गाँधी 27%, 56 votes
    56 votes 27%
    56 votes - 27% of all votes
  • नितीश कुमार 22%, 45 votes
    45 votes 22%
    45 votes - 22% of all votes
  • ममता बैनर्जी 4%, 9 votes
    9 votes 4%
    9 votes - 4% of all votes
Total Votes: 208
December 30, 2023 - January 31, 2024
Voting is closed